WhatsApp

हिम गंगा योजना से दूध उत्पादकों को होगा तगड़ा मुनाफा, जानिये क्या है योजना और कैसे उठाएं लाभ ?

हिम गंगा योजना

Table of Contents

दूध उत्पादन में भारत का स्थान दुनिया में पहला है और विश्व स्तर पर दूध उत्पादन में उसका योगदान 24.64 प्रतिशत है । इतना ही नहीं, पिछले एक दशक में में दूध उत्पादन का कारोबार 5.85 प्रतिशत की चक्रवृद्धि वार्षिक वृद्धि दर (सीएजीआर) से बढ़ रहा है । 2014-15 के 146.31 मिलियन टन से बढ़कर 2022-23 में दूध उत्पादन 230.58 मिलियन टन हो चुका है ।

इन आंकड़ों से भारत के दूध उत्पादन उद्योग की विशालता का अंदाजा लगाया जा सकता है जिसमें हिमाचल प्रदेश का भी बड़ा योगदान है । इसीलिए प्रदेश के पशुपालकों की आर्थिक स्थिति को और  मजबूत बनाने के लिए प्रदेश सरकार एक लाभकारी योजना लेकर आई है जिसका नाम है हिम गंगा योजना 2024 (Him Ganga Yojana 2024) । क्या है योजना, कौन उठा सकता है लाभ और किस तरह कर सकते हैं आवेदन ? आइये, इस Blog में जानते हैं । 

क्या है हिम गंगा योजना ?

यूं तो हिमाचल प्रदेश की सरकार ने इस योजना को 2023 में शुरू किया था लेकिन वित्त वर्ष 2024-25 क तहत इस योजना के लिए बहुत बड़ा बजट आवंटित किया गया है । इस योजना के तहत सरकार पशुपालकों से दूध खरीदेगी और यह सुनिश्चित करेगी कि उन्हें बिना कटौती किये दूध का पूरा मूल्य चुकाया जाये । इससे दूध आघारित अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिलेगा, दूध का उत्पादन बढ़ेगा और पशुपालकों की आर्थिक स्थिति ठीक होगी ।  

क्या है योजना की खासियत ?  

  • सरकार  द्वारा पशुपालकों से दूध खरीदा जाता है और उन्हें दूध के उचित मूल्य का भुगतान किया जाता है । 
  • सरकार द्वारा गाय का दूध 80 रुपये प्रति लीटर और भैंस का दूध 100 रुपये प्रति लीटर की दर से खरीदना प्रस्तावित है ।  
  • सरकार पशुपालकों से दूध खरीदने के बाद इसका प्रसंस्करण और विपणन (processing & marketing)  भी करेगी ।  
  • राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड (एनडीडीबी) के सहयोग से लगभग 250 करोड़ रुपये में एक मिल्क प्लांट स्थापित किया जाएगा
  • राज्य सरकार ने 2024-25 के बजट में इस योजना के लिए 500 करोड रुपए का अतिरिक्त बजट आवंटित किया है । 
  • योजना को ठीक से लागू करने के लिए प्रथम चरण (2023-24) हेतु हिमाचल प्रदेश दुग्ध प्रसंघ (milk federation) को 20 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं 
  • योजना के तहत मिल्क प्रोसेसिंग प्लांट स्थापित किए जाएंगे जिससे प्रदेश के नागरिकों को शुद्ध दूध प्राप्त हो 
  • योजना को सफल बनाने के लिए नई डेयरियां स्थापित की जाएंगी और मौजूदा सुविधाओं को उन्नत किया जाएगा

क्या है योजना के लिए पात्रता ? 

यदि आप हिमांचल प्रदेश हिम गंगा योजना 2024 का लाभ लेना चाहते हैं तो कुछ बातें जान लेना बहुत जरूरी है । जैसे – 

  • सिर्फ हिमाचल प्रदेश के मूल निवासी ही आवेदन कर सकते हैं  
  • आवेदक को एक पशुपालक अथवा किसान होना जरूरी है 
  • आवेदक के पास पूरा KYC दस्तावेज होना जरूरी है 

क्या-क्या दस्तावेज जरूरी हैं ? 

HP Him Ganga Yojana 2024 के लिए आवेदन करने से पहले अपने पास कुछ जरूरी दस्तावेजों का होना सुनिश्चित कर लें । जैसे – 

  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो

कैसे करना है आवेदन ? 

अगर आप ऊपर लिखी पात्रता (eligibility) पूरी करते हैं और आपके पास सभी जरूरी दस्तावेज हैं तो आप आवेदन के योग्य हैं । लेकिन अभी थोड़ा इंतजार करना होगा क्योंकि यह योजना (HP Him Ganga Yojana 2024) पूरी तरह लॉन्च नहीं की गई है, सिर्फ इसका ड्राफ्ट (प्रारूप) ही तैयार हुआ है । उम्मीद की जा रही है कि जल्द ही योजना के लिए आवेदन मांगना शुरू कर दिया जाएगा । शुरुआत में हिमाचल प्रदेश के कुछ चुनिंदा जिलों में ही इसे शुरू किया जाएगा और सफल नतीजे मिलने पर धीरे-धीरे पूरे प्रदेश के पशुपालक इसके लिए आवेदन कर सकेंगे । योजना की शुरुआत कांगड़ा और हमीरपुर से होने के आसार हैं । आशा है कि जल्द ही एक आधिकारिक वेबसाइट और हेल्पलाइन नंबर भी शुरू होगा जिससे आप घर बैठे ही योजना से जुड़ी सारी जानकारी जुटा सकें । 

Refit Animal Care  के अनेक प्रोडक्ट दूध उत्पादन में आपके मददगार सिद्ध हो सकते हैं । मिसाल के लिए DOODH YODHA, जो डेयरी गायों, भैंस, बकरी, भेड़ इत्यादि की दूध उत्पादन क्षमता को सुधारता और बढ़ाता है । यह दूध में वसा (fat) प्रतिशत और एसएनएफ (solids-not-fat) दर बढ़ाता है। पशुओं के स्वास्थ्य और दुग्ध उत्पादन से जुड़े हमारे कई उत्पाद पशुपालकों के लिए एक आदर्श विकल्प हैं, जिनका प्रयोग करके वह अपने व्यवसाय में तेजी से आगे बढ़ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *