Lumpy Skin Disease: लंपी चर्म रोग के कारण, लक्षण, और बचाव (क्या करें- क्या न करें?)

लंपी चर्म रोग के कारण

लंपी चर्म रोग (Lumpy Skin Disease or LSD) पशुओं में होने वाली एक विषाणु संक्रामक बीमारी (Viral Infection Disease) है जो सामान्यतः गाय और बैलों में पाई जाती है। यह बीमारी त्वचा पर छोटे-छोटे गांठों के रूप में दिखायी देती है, जो धीरे-धीरे बढ़ते हैं और पूरे शरीर में फैल जाते हैं। यह बीमारी पशुओं के लिए खतरनाक हो सकती है, जिससे उनके उत्पादन में गिरावट हो सकती है और पशुपालकों को नुकसान हो सकता है।

आइए आज लंपी चर्म रोग (Lumpy Skin Disease) होने के कारणों को जानने की कोशिश करते हैं और साथ ही इस चर्म रोग के लक्षण और उनसे बचाव के बारे में जानते हैं। LSD रोग होने पर पशुपालक को क्या करना चाहिए और क्या नहीं इस बात को जानना भी आवश्यक है।

लंपी चर्म रोग के कारण

LSD रोग एक विषाणु संक्रमण (Viral Infection) द्वारा होता है, जो आम तौर पर पशु की त्वचा में प्रवेश करता है। यह रोग मवेशियों में पॉक्सविरिडे (Poxviridae) परिवार के एक वायरस (Virus) के कारण होता है, जिसे नीथलिंग वायरस (Neethling virus) भी कहा जाता है। एलएसडी वायरस मच्छरों, मक्खियों या अन्य खून चूसने वाले कीड़ों के माध्यम से आसानी से फैलता है। इस रोग से ग्रसित पशु की त्वचा पर छोटी-छोटी गांठें बनने लगती हैं, जो धीरे-धीरे बढ़ती हैं और घाव बन जाता है। ये गाँठें पशु के शरीर पर जैसे कि पैर, सींग, गर्दन, पीठ या जननांगों पर बन सकती हैं।

लंपी चर्म रोग के लक्षण

इस रोग से ग्रसित पशु में सामान्यतः निम्न लक्षण दिखायी देते हैं।

    1. त्वचा पर छोटे-छोटे गांठों का उभारना।

    1. गांठें धीरे-धीरे बढ़ती हैं और सब तरफ फैल जाती हैं।

    1. पशु खाना पिना छोड़ देते हैं, ऐंठना, खाना कम खाना।

    1. बुखार और सिरदर्द हो सकता है।

लंपी चर्म रोग से बचाव

पशुपालकों को विशेष रूप से ध्यान देने की आवश्यकता है। लंपी चर्म रोग को फ़ेलने से रोकने के लिए निम्न उपाय हैं।

    1. अपने पशुओं की स्वच्छता का ध्यान रखें। नियमित रूप से स्नान कराएं और त्वचा की देखभाल करें।

    1. बीमार या संदिग्ध पशुओं को बाकी पशुओं से अलग रखें और संपर्क से बचाएं।

    1. बीमार पशु को अच्छा और पौष्टिक आहार देने पर विशेष रूप से ध्यान दें।

    1. पशु चिकित्सक की सलाह लें और वैक्सीनेशन के लिए नियमित रूप से जाएं।

यदि आपके पशु में लंपी चर्म रोग के लक्षण पाए जाते हैं, तो तुरंत पशु चिकित्सक से संपर्क करना चाहिए। उन्हें बीमारी के लक्षण और उचित इलाज के बारे में सलाह लेनी चाहिए और उनके द्वारा बताए गए उपायों का पालन करें।

लंपी चर्म रोग के प्रकोप में आने पर क्या करें और क्या ना करें:

    1. बीमार पशु को बाकी पशुओं के साथ संपर्क में न आने दें।

    1. पशु को अच्छी और पौष्टिक आहार देने से विशेष रूप से ध्यान रखें।

    1. पशु को साफ-सुथरा रखने और त्वचा की देखभाल का विशेष ध्यान दें।

    1. आपको तुरंत एक पशु चिकित्सक से संपर्क करना चाहिए।

इसके साथ ही आप बीमार जानवरों के घावों के उपचार हेतु रिफिट एनिमल केयर कंपनी द्वारा निर्मित Lumpy-Hit दवा का उपयोग कर सकते हैं। Lumpy-Hit गायों में फैल रहे इस लंपी वाइरस के उपचार हेतु निर्मित किया गया है। एक हर्बल टॉनिक है जो गायों की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है और लम्पी रोग से लड़ने में सहायक है।

Share this Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *