मुर्गी हैजा, हैजा के कारण, लक्षण, उपचार और रोकथाम

मुर्गी हैजा हैजा के कारण, लक्षण, उपचार और रोकथाम

मुर्गी हैजा (fowl cholera) एक अत्यधिक संक्रामक जीवाणु रोग है जो मुर्गियों, टर्की, बत्तखों और कई प्रकार के जंगली पक्षियों को प्रभावित करता है। मुर्गी हैजा को एवियन हैजा, एवियन पेस्टुरेलोसिस और एवियन हेमोरेजिक सेप्टिसीमिया भी कहा जाता है। वयस्क पक्षी और बूढ़ी मुर्गियाँ अधिक संवेदनशील होती हैं। पैतृक झुंडों में, मुर्गियाँ मुर्गियों की तुलना में कहीं अधिक संवेदनशील होती हैं। यह पेस्टुरेला मल्टोसिडा नामक बैक्टीरिया के कारण होता है। यह रोग के रूप के आधार पर लक्षण भिन्न-भिन्न होते हैं।

मुर्गी हैजा के कारण

संक्रमित मुर्गीयों, पक्षियों के मल से दूषित पानी, शेलफिश या अन्य खाद्य पदार्थों का सेवन करने से होता है।

मुर्गी हैजा का प्रसार या ट्रांसमिशन

  • हवा से – खांसने या छींकने के दौरान
  • संक्रमित पक्षियों की बीट के संपर्क में आने से
  • दूषित चारा और पानी खाने से या पिने से
  • घाव या खुले जख्मों के संपर्क में आने से
  • संक्रमित कैरियर्स (पक्षी जो स्वस्थ दिखाई देते हैं लेकिन जीवाणुओं को अपने भीतर छुपाये रखते हैं)
  • जंगली या घरेलू जानवरों से गैर-घातक शिकारी हमले से । जंगली या घरेलू जानवरों जैसे के कुत्ते, बिल्लियां और रैकून जिनके मुँह में और उनके नाखूनों के नीचे हैजे के बैक्टीरिया पाया जाता है ।

मुर्गी हैजा या एवियन हैजा या चिकन हैजा के लक्षण

मुर्गी हैजा दो रूपों में सामने आ सकता है:

  • तीव्र रूप
  • अचानक मौत
  • तेज़ बुखार
  • सुस्ती, अवसाद
  • भूख में कमी
  • हरा या पीला दस्त
  • मांसल कलंगियां (Fleshy buds) और लोथड़े (loin) में सूजन
  • आंखों और नाक से डिस्चार्ज
  • सांस लेने में तकलीफ
  • जीर्ण (क्रॉनिक) रूप:
  • सूजे हुए जोड़
  • लंगड़ापन
  • फोड़े (मवाद (pus) से भरी सूजन)
  • सांस लेने में कठिनाई

मुर्गी हैजा या फाउल कोलेरा का उपचार

  • तत्काल कार्रवाई महत्वपूर्ण है।
  • मुर्गी हैजे का प्राथमिक उपचार एंटीबायोटिक्स से किया जाता है। विशिष्ट एंटीबायोटिक और खुराक के लिए तुरंत पशु चिकित्सक से संपर्क करें।
  • आमतौर पर इस्तेमाल की जाने वाली एंटीबायोटिक्स में सल्फोनामाइड्स, टेट्रासाइक्लिन और पेनिसिलिन शामिल हैं।
  • स्वच्छ पानी, आरामदायक वातावरण और आसानी से उपलब्ध भोजन प्रदान करें।
  • रोग के प्रसार को रोकने के लिए प्रभावित पक्षियों को अलग कर दें।

रेफिट एनिमल केयर की रेस्पिफिट (RESPIFIT) रेस्पिरेटरी टॉनिक और खांसी की दवा है। यह पोल्ट्री, चिकन, मवेशी, बछड़े, गाय, भैंस, भेड़, बकरी और पशुधन जानवरों को दवाई के रूप दी जा सकती है।  यह जीवाणु संक्रमण जैसे – संक्रामक सर्दी, मुर्गी हैजा, कोलिबासिलोसिस जैसी रेस्पिरेटरी बिमारियों के दौरान काफी असरकारक हैं । RESPIFIT में मुख्य रूप से हर्बल अर्क और नीलगिरी तेल, थाइमस तेल, दालचीनी के साथ मेन्थॉल तेल जैसे प्राकृतिक आवश्यक तेलों से बनाया जाता है जो बहोत प्रभावी है और पक्षियों में पाए जाने वाली श्वसन समस्याओं में अत्यधिक उपयोगी है।

मुर्गीयों में हैजा की रोकथाम

  • मुर्गी हैजा को रोकने के लिए सख्त जैव सुरक्षा उपायों का पालन अति आवश्यक है:
  • जंगली पक्षियों के साथ संपर्क सीमित करें
  • झुंड में जोड़ने से पहले नए पक्षियों को अलग रखें (क्वारंटाइन करें)
  • उपकरण और आवास को नियमित रूप से साफ और कीटाणुरहित करें
  • कृन्तकों (चूहों) और कीड़ों को नियंत्रित करें
  • मृत पक्षियों का सही तरीके से निपटान करें
  • टीकाकरण एक अत्यधिक प्रभावी निवारक उपाय है।
  • उचित टीकाकरण के कार्यक्रम और उपलब्धता के लिए पशु चिकित्सक से सलाह लें।

मवेशियों (पशुओं) के लिए सावधानियां

  • जबकि मुर्गी हैजा मुख्य रूप से पोल्ट्री को प्रभावित करता है, मवेशियों के मामले में किसी भी संभावित जोखिम को कम करने के लिए सावधानी बरतना आवश्यक है।
  • मुर्गी और मवेशियों के लिए अलग-अलग आवास व्यवस्था रखें।
  • मुर्गी के अपशिष्ट (वेस्ट) तक मवेशियों की पहुंच को रोकें।
  • मुर्गी और मवेशी दोनों को संभालते समय स्वच्छता का पालन करें।

भारत में टीकाकरण की उपलब्धता

भारत में मुर्गी हैजा के अनेक टीके उपलब्ध हैं। विशिष्ट टीकों, उपलब्धता और टीकाकरण प्रोटोकॉल के बारे में जानकारी के लिए अपने स्थानीय पशु चिकित्सक या पोल्ट्री विस्तार सेवा से संपर्क करें। यदि आपको अपने झुंड में मुर्गी हैजा का संदेह है तो तुरंत पशु चिकित्सक से परामर्श करें।

मुर्गी हैजा एक गंभीर बीमारी है जिसका मुर्गी पालन उद्योग पर आर्थिक प्रभाव पड़ता है । प्रकोप को नियंत्रित करने और नुकसान को कम करने के लिए रोग की शीघ्र पहचान और उपचार महत्वपूर्ण है।

Share this Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *